Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/axsforglosa/public_html/connection.php on line 7
चीन की ' कामशक्ति ' का राज़
Thursday, April 26, 2018
समाज बदलते दो शिक्षक
भक्त दर्शन पांडेय
वरिष्ठ पत्रकार,पिथौरागढ़

पिथौरागढ़। बेटी और पर्यावरण बचाने के लिए पिथौरागढ़ जिले के दो शिक्षकों ने अनूठी मुहिम शुरू की है। एक शिक्षक बेटी बचाने के लिए नव वर-वधू से संकल्प पत्र भरा रहे हैं तो एक शिक्षक पर्यावरण की सुरक्षा के लिए नव वर-वधू के हाथों परिणय पौधा रोपवाकर पेड़ बचाने का संदेश दे रहे हैं।
 
            

पिथौरागढ़ जिला लिंगानुपात की दृष्टि से बेहद संवेदनशील है। यहां पर एक हजार लड़कों के पीछे मात्र सात सौ लड़कियां रह गई हैं। यह स्थिति बेहद चिंतनीय है।

इस लिंगानुपात को पाटने के लिए एक शिक्षक डा.पीताम्बर अवस्थी पिछले एक साल से मुहिम छेड़े हुए हैं। डा.अवस्थी घर-घर जाकर लोगों को बेटी बचाने के लिए जागरूक कर  रहे हैं।


 इतना ही नहीं पीताम्बर विवाह बंधन में बंधने वाले नए जोड़ों से बेटा बेटी को एक समान मानने और भ्रूण हत्या नहीं करने का संकल्प पत्र भराते हैं।


इस मुहिम के तहत वे अब तक दो सौ जोड़ों से संकल्प पत्र भरा चुके हैं। इतना ही नहीं डा.अवस्थी घर-घर जाकर लोगों को बेटी के महत्व से परिचित कराते हुए हस्ताक्षर अभियान भी चला रहे हैं।



इसके तहत 40 हजार लोगों के हस्ताक्षर कराए जा चुके हैं। उनका कहना है कि एक लाख हस्ताक्षर होने के बाद इस हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन को मुख्यमंत्री को सौंपा जाएगा।


इसी तरह एक दूसरे शिक्षक मोहन पाठक पर्यावरण सुरक्षा के लिए परिणय पौधा लगाने की अनोखी मुहिम छेड़े हुए हैं। पिथौरागढ जिले के राजकीय इंटर कालेज गौरंगचैड़ में कार्यरत शिक्षक विवाह बंधन में बंधने वाले नए जोड़ों से कन्यादान के समय एक पौधा लगवाते हैं और संकल्प पत्र भराते हैं।                         
                                                                                 
इसके बाद इस पौधे की देखरेख का जिम्मा कन्या के माता-पिता को सौंप दिया जाता है। इस संकल्प के साथ कि इस परिणय पौधे की देखभाल लड़की के माता-पिता अपनी बेटी की तरह करेंगे। मोहन पाठक अब तक लगभग डेढ़ सौ जोड़ों से इस तरह के संकल्प पत्र भरा चुके हैं। शिक्षक पाठक कहते हैं कि इस समय पेडों को काफी क्षति पहुंची है। इससे पर्यावरण को भारी क्षति पहुंची है। इसकी भरपाई अब लोगों को जागरूक करके ही हो सकता है। दोनों शिक्षक राजकीय इंटर कालेज गौरंग चैड़ में कार्यरत हैं। बेटी बचाओ अभियान चला रहे डा.पीताम्बर अवस्थी पिछले दस वर्षों से नशामुक्ति अभियान भी छेड़े हुए हैं।
नशे के खिलाफ उन्होंने एक लाख हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन राज्यपाल को सौंपा था।  डा. अवस्थी स्कूलों में बच्चों से नशा मुक्ति का संकल्प पत्र भराकर अभिभावकों को जागरूक करने का आहवान करते हैं।

 

 

शिक्षकों की इस मुहिम पर लिखिये अपनी राय़ ।


 Yes      No
   Comments
priti tripathi
good going guru ji......
 
Kapil
good.......
 
keshav
Good story..
 
Mahesh kumar
यह एक अनमोल औषधी है और हम खुशनशीब हैं जो यह भारत में पाई जाती है। सरकार को जल्द इस की तस्करी रोक कर स
 
sanjay
yes