Thursday, June 21, 2018
कहीं आप सबलवाय (GLAUCOMA) की चपेट में तो नहीं हैं ?
डा.अभय सिंह
होम्योपैथिक चिकित्सक एवं मानसिक रोग विशेषज्ञ,लखनऊ


सबलवाय आंखों से संबंधित बीमारी है जो अधिकतर वृद्धावस्था में देखी जाती है।

लक्षण- इस बीमारी में दृष्टि धुंधली पड़ जाती है।इस बीमारी में कभी - कभी दर्द भी होता है और उल्टी भी हो सकती है । इस बीमारी में कनीनिका धुंधली सी दिखती है ,पुतली अंडाकार और फैली सी लगती है । आंखे पथराई सी  प्रतीत होती हैं ।


जांच - 

इस बीमारी में आंखों के अंदर का दबाव बढ़ जाता है जिसकी जांच टोनोमीटर(tonometer) नामक एक यंत्र से की जाती है । इस बीमारी के इलाज में हम कई तरह के आंखों में डालने
वाली दवाइयों का प्रयोग कर सकते हैं जिसमे आराम भी मिल जाता है। मगर दवाओं के बंद
करने पर यह बीमारी दोबारा हो जाती है।
 
                                                                                                                                              सावधानी - होम्योपैथिक दवाओं के सेवन से इस बीमारी के बार-बार होने की प्रक्रिया को रोका जा सकता है। जो कि लक्षण के अनुसार आप होम्योपैथिक चिकित्सक से परामर्श लेकर सेवन कर सकते हैं । बिना सलाह इन दवाइयों को लेने से नुकसान हो सकता है ।

अन्य उपयोगी लिंक - https://nei.nih.gov/health/glaucoma/glaucoma_facts


डा. अभय सिंह से आप अपने सवाल ई-मेल से  भी पूछ सकते -contactdrabhay@gmail.com

या
डा. अभय सिंह  को फोन करें - 09415088981


अन्य उपयोगी लिंक - https://en.wikipedia.org/wiki/Glaucoma


उपचार -
 

कुछ दवाओं का विवरण इस तरह से है-

कोमोक्लोडिया(comocladia-30)
- इस दवा का प्रयोग तब होता है जब सबलवाय के रोगी की

आंखों में भारीपन रहता है और आंखे हिलाने पर दर्द होता है।

कोलोसिन्थ (colocynth-30)
- इस दवा का प्रयोग तब होता है जब आंखों में दर्द के साथ

सबलवाय बढ़ता है ।

कोकाइना (cocaina-30)- इस दवा का प्रयोग तब होता है जब आंखों में तनाव,और आंख

बुझी सी दिखती है।

फायोस्टिग्मा (phyotstigma -30)
-इस दवा का  प्रयोग तब होता है जब सबलवाय के साथ

आंखों की रौशनी कम होती है ।    

जलसेमियम(gelsemium-30)- इस दवा का प्रयोग तब होता है जब आंख की रौशनी कम

होने की शिकायत हो ।

यह सभी दवाइयां दिन में 3 बार ली जा सकती  हैं।
                                                            सभी पाठकों से आग्रह है कि लेख में  सुझायी गई किसी भी दवा का सेवन करने से  पहले अपने चिकित्सक से जांच व परामर्श जरूर करें ।
 





  







  

 

 

क्या आपकी राय में देश के अंदर नेत्र चिकित्सालयों की संख्या पर्याप्त है ? अपनी राय भी लिखें ।


 Yes      No
   Comments
Bikanu yadav
Sir glaucoma Ka ilaj hai btana