Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/axsforglosa/public_html/connection.php on line 7
Thursday, April 26, 2018
शारदीय नवरात्र
एन.एफ.जी.ब्यूरो

आश्विन शुक्ल पक्ष का प्रारम्भ और धर्म प्राण हिन्दुवों एवं श्रद्धावान शाक्तों के घरों में गूजने लगे स्वर "या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।। शक्ति संचय किंवा उपासना का वर्ष में दूसरा सत्र "इसे शारदीय नवरात्र कहते हैं"। पहला चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से प्रारम्भ होने वाला;जिसे वासंतिक नवरात्र कहते हैं। पौराणिक उल्लेखों के अनुसार ब्रह्मा जी ने सृष्टि का सृजन इसी दिन आरम्भ किया था।




                                                               शक्ति अथवा देवी दुर्गा सभी देवतावों के तेज का पुञ्जीभूत रूप हैं। अपने 9 रूपों के कारण वे नव दुर्गा भी कही जाती हैं। ये हैं -
 
1- शैलपुत्री

2- ब्रह्मचारिणी

3- चन्द्रघण्टा

4- कूष्माण्डा

5- स्कन्दमाता

6- कात्यायनी

 7- कालरात्रि

 8- महागौरी

9- सिद्धिदात्री।

                                             नवरात्र भें कलश स्थापित करके इनकी उपासना की जाती है। मातृ उपासना तीन महाशक्तियों के रूप में भी की जाती है ।

1- महासरस्वती

2- महालक्ष्मी और

3- महाकाली।

                                                 इनके बीजाक्षर मंत्र हैं क्रमशः -1- ऐं,ह्रीं और क्लीं । इन आद्या शक्ति को 10 महाविद्यावों के रूप में जाना और पूजा जाता है। यथा:--

1- काली (काल शक्ति)                                                                                   

2- तारा (क्षुधा शक्ति)

 3- षोडशी (पूर्ण शक्ति)

4- भुवनेश्वरी(ज्ञान शक्ति)

 5- छिन्नमस्ता (त्याग शक्ति)

 6- भैरवी (भरण शक्ति)

7- धूमावती (दरिद्रता शक्ति)

8- बगला (क्रूर शक्ति)

9- मातंगी(प्रभाव शक्ति)

10- कमला (ऐश्वर्य शक्ति)।


                                        हमारे ग्रन्थों में तो नारी मात्र को देवी रूप घोषित किया  है:-

                                         विद्याः समस्तास्तव देवि भेदाः
                                               स्त्रियःसमस्ताः सकला जगत्सु।
                                         त्वयैकया पूरितमम्बयैतत्
                                                 का ते स्तुतिःस्तव्यपरा परोक्तिः।।


                                                शक्ति मॉ अनादि,अनन्त हैं। मानव सभ्यता के आदि ग्रन्थ,अपौरुषेय माने जाने वाले वेदों में उनका उल्लेख है। ऋग्वेद के दशम् मण्डल के 125 वें सूक्त में 8 ऋचाएं देवी सूक्त"नाम से हैं। उनकी सर्व व्यापकता और सर्व शक्ति सम्पन्नता निर्विवाद है। शुम्भ राक्षस से वे स्वयं कहती हैं "अरे दुष्ट!मैं अकेली ही हूं; मेरे सिवा इस संसार में दूसरा कौन है?"
      
                              "एकैवाहं जगत्यत्र द्वितीया का ममापरा।"
       
                                                 इन माता की कृपा और सहायता सभी को अपेक्षित है। आवश्यकता पड़ने पर,जिसने उन्हें स्मरण किया,जिसने आराधना की ;उसी के कार्य सिद्ध
हुए।"  सौन्दर्य लहरी में आद्य शंकराचार्य कहते हैं "शिव" भी बिना शक्ति के शव मात्र रह जाते हैं"। देवी भागवत में भगवान विष्णु कहते हैं कि " यदि मैं स्वतंत्र और सर्वोपरि  होता तो भला क्षीर सागर में लक्ष्मी के साथ विहार छोड़कर,मत्स्यादिक हीन योनियों में क्यों पड़ता और गरुड़ की पीठ पर बैठकर असुरों से हजारों साल युद्ध क्यों करता"?


मां दुर्गा की स्तुति "महालय" देखिये -http://www.newsforglobe.com (वीडियो गैलरी )
 
                                           शम्बरासुर ने सूतिका गृह से जब प्रद्युम्न का हरण किया था तो भगवान कृष्ण ने भी देवी जी की ही आराधना करके ही सफलता पाई थी;और अब बात वर्तमान शारदीय नवरात्र की,जिसे प्रारम्भ में संदर्भित किया गया है।

                                               श्रीराम के समक्ष जब रावण से युद्ध आसन्न था,तब इस विकट कार्य में सफलता पाने के लिये नारद मुनि ने उन्हें नवरात्र व्रत रखकर देवी की उपासना से शक्ति सञ्चय का परामर्श दिया था। श्रीराम 9 दिन तक शारदीय नवरात्र व्रत रहे;देवी जी की उपासना की। दशमी को व्रत समाप्त कर भगवती "विजया" का पूजन कर,लंका की ओर प्रस्थान किया:-
                          
                                    समाप्य तद्व्रतं चक्रे प्रयाण दशमी दिने।
                                     विजया पूजनं कृत्वा दत्वा दानन्यनेकशः।।
                                    
                                               (देवी भागवत)

                                   अष्टमी की मध्य रात्रि में सिंह पर आरूढ़ देवी जी ने उन्हें दर्शन दिये और रावण पर विजय तथा भूतल पर 11000 वर्ष राज्य करने का वरदान दिया।

                                           मॉ भगवती विश्व का कल्याण करें।



 

   Comments
Ravi Pal
Jai Mata Diiiii
 
राजेन्द्र कुमार,लखनऊ
अति सुंदर आलेख .....
 
nitesh
wah so sweet articlesss