Monday, December 18, 2017
प्राचीन भारत की वैज्ञानिक और तकनीकि उपलब्धियां (धरोहर:तीसरी कड़ी)
शारदा शुक्ला
पत्रकार,लेखिका (पुस्तक कलम की कॉकटेल से साभार)

भारतीय सिविल इंजीनियरिंग की गाथा इतनी छोटी नहीं है कि मुट्ठी भर नमूनों से ही जिसका बयान किया जा सके । भारतीय वास्तुकला के अनेकानेक नमूने न सिर्फ भारत बल्कि दूर पश्चिम में बामियान तक फैले थे । आज भी अनेक भव्य भवन , जिनमें मंदिर प्रमुख हैं,प्राचीन भारत के वास्तु विज्ञान की गाथा गाने के लिए सुरक्षित अवस्था में खड़े हैं । ऐसे भव्य भवनो में तंजौर का वृहदीश्वर मंदिर ,उड़ीसा का लिंगराज मंदिर और कोणार्क का सूर्य मंदिर एवं खजुराहो के मंदिर समूहों की गणना की जा सकती है।

प्राचीन मंदिर: कला और इंजीनियरिंग के बेजोड़ नमूने


                 वृहदीश्वर मंदिर का शिखर लगभग 200 फिट ऊंचा है जबकि लिंगराज मंदिर अपनी बाहरी साज-सज्जा के लिए प्रसिद्ध है । एक ही पहाड़ी चट्टान को काटकर बनाये गए मंदिरों में ऐलौरा का कैलाश नाथ मंदिर तथा चेन्नई के पास बने महामल्लपुरम् के मंदिरों की गणना की जाती है । ऐलोरै का कैलासनाथ मंदिर राष्ट्रकूट राजा कृष्णा प्रथम का बनवाया हुआ है । यह मंदिर एक ही पहाड़ी चट्टान को 128 फीट तक गहरे काटकर बनाया गया था । कैलासनाथ मंदिर के सुंदर प्रवेश द्वार को चट्टान का मुख भाग काटकर बनाया गया है ।  एक ही पहाड़ी चट्टान को काटकर बनाये गये मंदिरों की विशेषता यह होती है कि ये आम भवनों के विपरीत शीर्ष से आधार की ओर चट्टान काटते हुए बनाये जाते हैं । महामल्लपुरम् के मंदिरों को भी इसी तकनीक से बनाया गया है ।                                                                              

                    पहाड़ी चट्टानों को काटकर मूर्तियों का भी निर्माण किया जाता था । ऐसी कुछ प्रमुख मूर्तियां मैसूर,एलीफैंटा तथा सुदूर बामियान तक में बनायी गईं थीं । एलीफैंटा द्वीप में स्थित सबसे उत्कृष्ट मूर्ति त्रिमूर्ति शिव की है । मैसूर में इसी तकनीक से जैन संत गोमटेश्वर की प्रतिमा तथा बामियान में महात्मा बुद्ध की प्रतिमा भी बनायी गई थी ।  इन सभी मंदिरों ,प्रतिमाओं में संतुलन और सामंजस्य का खूब ध्यान रखा गया था । इस सभी मूर्तियों और भवनों की देह-यष्टि बड़ी उत्तम है । पहाड़ी चट्टानों को काट कर बनायी गई मूर्तियों में न सिर्फ अनुपात का ही ध्यान रखा गया बल्कि इनमें वास्तुकारों ने अपने अति सरल उपकरणों से देव तु्ल्य गरिमा एवं प्रतिष्ठा के भाव भी उनमें आरोपित कर दिये ।
                    भारतीय वास्तुकला की इससे बड़ी सफलता और क्या हो सकती है कि इन प्राचीन भवनों को अभियान्त्रिकी के बजाय कला का अध्ययन विषय बना दिया । साधारण दृष्टा जब इन्हें देखता है तो वह इसके कला पक्ष से ही तृप्त हो जाता है । उसका ध्यान इन भवनों के अभियान्त्रिकी पक्ष पर जा ही नहीं पाता ।                                        
                            तकनीकि दृष्टि से संभवत:सबसे आश्चर्यजनक मंदिर सोमनाथ का था । यह मंदिर निर्माण प्रणाली एवं सज्जा की दृष्टि से तो बहुत विशिष्ट नहीं था बल्कि इसमें जो विशिष्टता थी वह इस मंदिर में स्थापित शिव लिंग की स्थापना प्रणाली में थी ।
                                   तेरहवीं शताब्दी के एक अभिलेख के अनुसार इस मंदिर में स्थापित शिव लिंग धरती पर स्थापित न होकर अधर में बिना किसी सहारे के लटका हुआ था । इसे इस भांति स्थापित करने के लिए मंदिर के मंडप की छत पर चुंबकीय टाइलों को लगाया गया था । इन चुंबकीय टाइलों के प्रभाव से लौह निर्मित शिवलिंग धरती से थोड़ा ऊपर उठ गया था परन्तु अपने वजन से धरती व छत के बीच में संतुलित और स्थिर हो गया था ।                                                                                                    
                       जब इस मंदिर पर आक्रमण हुआ तो आक्रान्ता एवं उसकी सेना के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा । हमलावरों के द्वारा जब तक चुंबकीय टाइलें नहीं हटाई गईं तब तक शिव-लिंग अधर में ही अटका रहा । आक्रान्ता सेना ने जैसे ही चुंबकीय टाइलें हटाईं वैसे ही सोमनाथ मंदिर का लौह निर्मित शिव लिंग धरती पर आ गया ।  सोमनाथ मंदिर का लौह निर्मित शिवलिंग प्राचीन भारत की कोई अकेली धातु निर्मित मूर्ति नहीं थी । प्राचीन भारतीयों को लोहे,तांबे,कांसे,टिन,सोना,चांदी तथा सीसे आदि धातुओं से कई प्रकार की उपयोगी वस्तुएं बनाना बहुत पहले से ही आता था । प्राचीन भारतीय विभिन्न अयस्कों से धातुओं को निकालना बखूबी जानते थे । विभिन्न धातुओं से निर्मित विविध प्रकार की वस्तुओं की पुरातात्विक खुदाई में प्राप्ति भारतीयों के विशद धातुकर्म ज्ञान के पुख्ता प्रमाण हैं ।       
(....शेष अगली कड़ी में.....)

 

 

ये लेख आपको कैसा लगा ? अपनी प्रतिक्रिया लिखिये ।

 Yes      No
   Comments